दीदी का सील टूटते हुए देखा 2

(Didi Ki Seal Tutte Hue Dekha 2)

फिर जब विक्रांत बाथरूम से वापस कमरे में आया तो निधि उठकर अपने कपड़ो को ठीक करते हुए बैठ गई और अब निधि भी उठकर बाथरूम में चली गयी और जब तक कि निधि बाथरूम से वापस बाहर नहीं आई, तब तक विक्रांत अपने लंड को धीरे धीरे सहलाता रहा और जब निधि बाथरूम से वापस कमरे में आई तो विक्रांत ने निधि से अपने लंड को उसके हाथ में पकड़ते हुए उसको चूसने के लिए बोला। अब निधि ने उसकी उस बात का बिल्कुल भी विरोध नहीं किया और में उसकी इस हरकत को देखकर बहुत चकित हुआ, क्योंकि उसने तो अब मुस्कुराते हुए अपने मुहं में विक्रांत के लंड को ले लिया और वो किसी अनुभवी रंडी की तरह लंड को अंदर बाहर करके उसके टोपे पर अपनी जीभ को घुमाकर चूसने लगी थी। अब विक्रांत ने निधि के टॉप के भी हुक को एक एक करके खोल दिया और तब उसकी ब्रा के हुक को भी खोलकर उन दोनों को उतार दिया और निधि ने उसके लंड को मुहं में लेकर चूसते हुए अपने कपड़ो को उतारने में उसकी मदद करने लगी थी।

फिर जब विक्रांत ने उसके पूरे कपड़े उतार दिए, तब तक वो भी पूरी तरह से गरम हो गया। अब उसने निधि को बेड पर लेटने के लिए बोला और निधि तुरंत बेड पर लेट गई, विक्रांत ने उसके लाछे को उतारकर अलग रख दिया। फिर मैंने जब उसकी चूत को देखा तो सोचा कि आज चुदाई का असली मज़ा आने वाला है, क्योंकि निधि की चूत तो उसके लंड के लिए तो बिल्कुल ही छोटी थी। अब विक्रांत निधि की जाँघ पर बैठ गया और अपने दोनों हाथों से उसकी चूत को फैलाते हुए कुछ देर तक देखता रहा। फिर मेरी बहन ने चकित होकर उससे पूछा क्या उसका इतना मोटा और लंबा लंड उसकी चूत में चला जाएगा? तो विक्रांत ने बोला कि हाँ बहुत आराम से चला जाएगा और अब विक्रांत ने निधि से उसके दोनों पैरों को घुमाकर उल्टा करते हुए उससे उसकी दोनों जाँघो को फैलाते हुए वो अपने मुहं को निधि की चूत के पास ले गया और अब वो निधि की चूत को चाटने लगा।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Talaq Ke Baad Bhaiya Ka Sahara-1

अब निधि ने अपनी आखों को बंद कर लिया और वो धीमी धीमी सांसे खींचते हुए आहें भरने लगी। फिर कुछ देर के बाद विक्रांत उठकर बैठ गया और वो निधि की चूत पर अपने लंड को सटाते हुए निधि को अपनी चूत को फैलाने के लिए कहने लगा और निधि ने अपनी चूत को फैला दिया। फिर विक्रांत ने अपने लंड के टोपे को उसकी चूत के अंदर डाल दिया और एक ज़ोर के झटके के साथ अपने लंड को अंदर डालने के लिए उसने अपनी कमर को एक झटका मार दिया। अब निधि ने ज़ोर से चीख मारी और वो अपने दोनों पैरों को कसते हुए नहीं, आईईईईईईई की आवाज़ के साथ पूरी तरह से कांप उठी। अब विक्रांत ने अपनी कमर को हिलाना शुरू कर दिया और निधि के दोनों बूब्स को उसने अपनी हथेलियों में लेकर धीरे धीरे दबाना शुरू कर दिया और इसके साथ ही उसने अपनी कमर को हिलाना भी जारी रखा और इधर निधि आहह्ह्ह्हह्ह ऊआहोहााआअ की आवाज़ निकालने लगी।

फिर कुछ देर के बाद जब विक्रांत ने अपनी कमर की स्पीड को कम किया और तब में समझ गया कि अब उसका लंड मेरी बहन निधि के कुंवारेपन के दरवाजे पर दस्तक दे चुका था। अब विक्रांत ने अपने दोनों हाथों को निधि के बूब्स के ऊपर से हटाकर उसकी कमर को पकड़कर ज़ोर से झटके के साथ लंड को दोबारा अंदर दे मारा, जिसकी वजह से निधि का तो जैसे पूरा इंजन ही हिल गया। अब वो दर्द की वजह से बड़ी ही ज़ोर से चिल्ला उठी, आईईईईईईईईई आहह्ह्ह्ह अब बस करो, में मर जाउंगी प्लीज ऊऊईईईई। फिर मैंने देखा कि उसकी चूत के पास खून की कुछ बूंदे दिखाई दे रही थी, जिनको देखकर अब में तुरंत समझ गया था कि मेरी बहन अब एक लड़की से एक औरत बन चुकी है।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  ब्लैकमेल कर मुझे चोदता है मेरा भाई

अब निधि दर्द की वजह से आहहह्ह्ह आहहोह्ह्ह की आवाज़ के साथ मोन कर रही थी और इधर जब विक्रांत ने देखा कि उसकी सिसकियाँ अब कम नहीं हो रही है तो वो उसके ऊपर लेट गया और उसके होंठो को धीरे धीरे चूसने लगा और वो उसके दोनों बूब्स को मसलने लगा, जिसकी वजह से अब निधि कुछ देर के बाद शांत होने लगी थी और कुछ देर के बाद निधि ने विक्रांत से पूछा कि कितना बाहर है? तो उसने बताया कि और थोड़ा सा ही बाहर है और फिर अपने बचे हुए लंड को अंदर करने के लिए उसने ज़ोर से एक झटके के साथ अपनी कमर को हिला दिया। अब निधि ओह्ह्ह्हह आहहऊआाहहो की आवाजे निकालने लगी और इस तरह से विक्रांत ने निधि की चुदाई करीब आधे घंटे तक बहुत मज़े लेकर बहुत अच्छे तरीके से की और अब निधि भी अपने दर्द को भुलाकर अब उसका साथ खुलकर देने लगी थी और अब वो दोनों खुलकर एक दूसरे को धक्के देकर मज़े देने और लेने लगे और उस समय वो दोनों पूरे जोश में नजर आ रहे थे।

अब निधि भी विक्रांत के साथ साथ लगातार अपनी कमर को हिला रही थी और विक्रांत धक्के देने के साथ साथ निधि के होंठो को बुरी तरह से चूस रहा था और अब निधि भी उसका पूरा साथ दे रही थी। फिर कुछ देर के बाद वो दोनों शांत हो गये, तो मुझे यह पता चल गया कि अब मेरी बहन की चूत में विक्रांत का वीर्य जा चुका था और अब वो दोनों बिल्कुल निढाल एकदम शांत पड़े रहे। फिर कुछ देर बाद विक्रांत उठकर बैठते हुए अपने लंड को वो निधि की चूत से बाहर निकालते हुए उसके ऊपर से हट गया। फिर जब मैंने निधि की चूत को ध्यान से देख तो उसकी चूत इतनी जबर्दस्त लगातार चुदाई की वजह से पहले से बहुत ज्यादा सूज गई थी और अब विक्रांत उठकर बाथरूम में चला गया और बाथरूम से आने के बाद वो तैयार हुआ।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  चुदी हुई चूत मैंने भी चोद ली

अब में उनका खेल खत्म होता हुआ देखकर अपनी जगह से हट गया और में उतरकर इधर उधर घूमने चला गया और कुछ देर के बाद मैंने विक्रांत को उसके रूम से जाते हुए देखा और में आधे घंटे के बाद अपने रूम पर आया। फिर मैंने देखा कि निधि अब अपने पूरे कपड़ो को पहनकर चुपचाप सो रही थी, में उसको देखकर समझ चुका था कि वो उस चुदाई की वजह से ज्यादा थककर आराम कर रही है और मैंने उसको यह बात बताने की बिल्कुल भी जरुरत नहीं समझी कि मैंने उसका वो सब चुदाई का खेल खेलते हुए देख लिया है और मैंने उसको आराम करने दिया ।।
धन्यवाद

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!