दीदी ससुराल में अकेली

Didi sasuraal me akeli

हेलो दोस्तो कैसे हो आप सभी, मेरा नाम प्रिंस है , ओर मैं राजस्थान से हु,, मेरी उम्र 23 साल है, में आपको अपनी जिंदगी की एक सच्ची घटना कहानी के माध्यम से बताने जा रहा हु,,,
ये कहानी मेरी बड़ी दीदी की है,, जिनका नाम मनीषा है, वो दिखने में ज्यादा सुंदर तो नही ,, पर उनका जिस्म ओर बदन कमाल का है,,, ओर शादी के बाद तो वो ओर भी हॉट लगने लगी,,, उनके फिगर 34 36 34 का है,, वैसे तो मेरे मन में कभी उनके लिए गलत ख्याल नही आए ,,
उनकी शादी हमारे घर के पास ही एक गांव में हुई थी,,

एक दिन में बिना बताए दीदी को सरप्राइज देने शाम को उनके ससुराल पहुच गया,,, मेरे जाते ही दीदी ने मुजे गले लगा दिया,, उस समय मेने महसूस किया कि दीदी का शरीर पहले से अलग लग रहा था।
फिर फीर दीदी ने मुजे अंदर बिठाया, पानी पिलाया,, ओर हम बाते करने लगे,,
दीदी के घर में ,, दीदी , जीजाजी,, और सास,ससुर रहते थे,, मेने सभीके बारे में पूछा तो दीदी ने बताया कि सभी शहर गए है,, रात तक लौट आएंगे,, फिर करीब 8 बज गए और मैने ओर दीदी ने खाना खाया और t,v देखने लगे,, 9 बजे जीजाजी का कॉल आया और उन्होंने बताया कि,, शहर में काफी तेज बारिश है,, ओर बस नही मिल पाएगी,, इसलिए वो कल सवेरे ही गांव आएंगे,,
अब में ओर दीदी घर में अकेले थे,,

अभी तक सब सामान्य था,, में दीदी के बारे में कोई गलत ख्याल मेरे मन मे नही था,,, फिर हम 11 बजे सोने के लिये गए, आप को तो मालूम है दोस्तो गांव में घर ज्यादा अच्छे नही होते,, एक कमरा , ओर बरामदा था , तब दीदी ने कहा , प्रिंस तुम मेरे साथ ही कमरे में सो जाओ, बाहर मच्छर बहुत है,,
मेने भी हा कर दी,, ओर हम लेट गए,, दीदी के बेडरूम का पलँग ज्यादा बड़ा नही था,, मध्यम साइज का था,, हम दोनों अडजिस्ट हो गए,, रात को करीब 2 बजे मेरी आँख खुली तो मैने देखा कि दीदी मुझसे चिपक के सो रही थी,, ओर उनके साडी भी भिखरी पड़ी थी,, ब्लाउज के बटन खुले पड़े थे,, ये देख कर अब मेरा 7′ लम्बा ओर 3′ मोटा लन्ड हरकत में आ गया,,ओर एक दम अकड़ गया।
अब मुझसे कंट्रोल करना मुश्किल हो रहा था,, मेरे मन मेअपनी दीदी की चुदाई की हवस चढ़ गई थी,,,

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Bhan ko garam karke choda

तभी मेने अपने कपड़े उतारे ओर नंगा होकर दीदी की दूसरी साइड जा कर लेट गया,, ओर दीदी की साड़ी को ऊपर करके पीछे से ही उनकी एक टांग ऊपर की ओर रास्ता बनाते हुए अपने लोडे को उनकी चुत में डालने लगा,, मेरी हवस बेकाबू हो रही थी मेने दीदी को अपने से सटाया ओर उनके बूब्स को हाथ मे कसके पकड़ लिया और और फिर धीरे धीरे लन्ड दीदी की चुत में डालने लगा,, दीदी अभी तक सो ही रही थी,, ओर में आराम से दीदी की चुत में अपना पूरा लन्ड डाल रहा था,,कुछ समय बाद जब दीदी अपनी बुर में गर्मी का अहसास हुआ ,तब उनकी आंखे खुली,,, ओर अब में डर गया की, अब तो मेरी खैर नही,,, तभी दीदी ने पीछे मुजे देखा,, ओर कहा ,, प्रिंस ये तुम क्या कर रहै हो।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मै- दीदी, आपकी बुर चोद रहा हु,,,
दीदी- हहहहह , दीदी हसने लगी।।
मेरे कुछ समझ मे नही आया,, मेने पूछा दीदी आप हस क्यों रहे हो, फिर दीदी के जवाब से तो में सुन्न पड़ गया,,
दीदी:- साले बहनचोद, हरामी,,ऐसे चुदाई होती है,, धीरे धीरे— थोड़ा जोर से चोदना,,
अब दीदी भी तैयार थी,, मेने दीदी की साड़ी पूरी उतारदी ओर ब्लाउज पेटीकोट निकल कर पूरी नँगी कर दिया ,,
फिर मेने दीदी को पलग पर पटका,, ओर उनके दोनों पैरों के बीच बेथ कर अपना लन्ड उनकी चुत में डाल दिया,, ओर बोहत ही जोर से घपघप चोदने लगा,, दीदी सिसकारियां भरने लगी,,, हहहह आआह ममम ओह ओह्ह चोद मेरे भाई चोद ओर जोर से जोर से हहहहहहहह ,,, आआह, आआह,,,, ओह्ह,,, यसस,, ऊईईईई ,,,

हिंदी सेक्स स्टोरी :  बहन निकली चुत की रानी

में जोर जोर से दीदी को चोद रहा था,, ले रंडी ले साली मेरा लोडा ले,,, आज तो तेरी चुत का भोसड़ा बना दूंगा,,, ले
ओर दीदी की जबरदस्त चुदाई की 2 घंटे की चुत चुदाई के बाद मेने दीदी को कुटिया बनाया और पीछे से लन्ड उनकी गांड में डाल दिया,, मममम अअअअअअअ,,,, आआह,,,, ऊईईईई ,,,,रे,,, आआआह ,,,,,आआह,,,
ओर उन्हें बोहत दर्द हुआ,, उनकी गांड पर थप्पड मार मार कर लाल करदी,, ओर उनकी गांड सूज गयी,,
अगले दिन सुबह दीदी से चला भी नही जा रहा था,,,,
इस तरह मेने दीदी को उनके ससुराल में जमकर चोदा,,, ओर हम दोनों को बहुत मज्जा आया ,,,,।

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!