दोस्त ने बीबी को जमकर चोदा-4

 Dost Ne Biwi Ko Jamkar Choda-4

मालिनी चादर ठीक करने के बहाने पीछे मुड़ गई अब उस्मान के सामने उसकी मोटी गांड थी और उस्मान उसे बिना पलक झपकाए घूरे जा रहा था कुछ देर बाद मालिनी जैसे ही पलटी तो उस्मान का लंड पूरी तरह फनफना गया था मालिनी अनवरत उस्मान के लंड को देखे जा रही थी उसकी आँखों में वासना की चमक आ गई उसे जिस तरह के लवड़े की जरूरत थी उसके चुन्चुक पूरी तरह कड़े हो गये थे और अब ख़ुशी के मारे उसकी चुत ने पानी छोड़ना चालू कर दिया था जो साफ नजर आ रहा था. कुछ देर ऐसे ही एक दूसरे को देखने के बाद दोनों बेड पर सोने चले गए.

वो दोनों एक दूसरे की तरफ मुँह करके लेट गए उस्मान अभी भी मालिनी की चूचियों को लगतार घूरे जा रहा था.
यही हाल इधर उस्मान का भी था उसके लंड से निकलते हुए प्रीकम से उसकी सफ़ेद रंग की चड्डी में बड़ा सा चिपचिपा धब्बा बनता जा रहा था. दोनों एक दुसरे को देखे जा रहे थे और अब दोनों की सांसे तेज तेज चल रही थी, लेकीन दोनों अपने तरफ से पहल नहीं कर रहे थे शायद उन्हें मालूम ही था की थोड़ी देर बाद तो दोनों एक दुसरे में गुथ्थ्म्गुथ्था होने ही वाले है.

मालिनी – आह्ह्ह्हह जग्ग्गु मेरी जान सच में कमाल के हो, पागल है वो लड़किया जो तुम्हे छोड़ के चली गई….. उफ्फ्फफ्फ्फ़. आई लव यू.
उस्मान – मेरी जान अभी तो मैंने तुम्हे प्यार करना शुरू भी नहीं किया, वैसे कुछ भी कहो मैंने जितनी भी लड़किया चोदी है वो तुम्हारे पैरो के धूल के बराबर भी नहीं है, अब तो जब तक तुम्हारा भड़वा पति नहीं आता तब तक मै छुट्टी लेकर तुम्हे दिन रात छोडूंगा.

अब उस्मान ने मालिनी की गांड के छेद को फैला दिया और जीभ को नुकीली बनाकर उसके गांड के छेद में तेजी से अंदर बाहर करते हुए अपनी जीभ से ही मालिनी की गांड चोदने लगा (जीभ से मालिनी की गांड मारने लगा), उस्मान का ये अनोखा अंदाज था जिससे वो किसी भी लड़की को सिर्फ जीभ से चोदकर झड़ा सकता था वो अपने दूसरे हाथ से मालिनी की चुत को निचोड़ने लगा और यही मौका था की मालिनी फिर से जोर जोर से आआआआआह उफ्फफ्फ्फ्फफ्फ्फ़ एससससससस करते हुए झड़ने लगी, मालिनी तीसरी बार झड़ी थी लेकिन उस्मान ने अपनी जीभ से मालिनी की गांड मारना बेरहमी से जारी रखी (यहाँ मै बताना चाहूंगा की मै कभी भी मालिनी की गांड को छूता भी नहीं था मारना और चाटना तो दूर की बात थी), उसने मालिनी की गांड में अपनी जीभ अब दुगुनी रफ़्तार अंदर बहार करने लगा जैसे उसके मुँह में लंड हो.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  दोस्त की भाभी

मालिनी आश्चर्य मिश्रित आनंद के सागर में गोते लगा रही थी, मालिनी – उस्मान मेरी जाआआनन! आआआआह उफ्फ्फ्फफ्फ्फ़ एसससस एसससससस करते रहो! ओह्ह्ह्हह्ह माआआआआ इस तरह कहते हुए वो फिर से एक बार अपना माल छोड़ने लगी, वो लगातार बिना ब्रेक के चौथी बार झड़ी थी और अपना पुराना रिकॉर्ड तोड़ने से सिर्फ दो कदम की दुरी थी, मालिनी का बिना चुत में लंड लिए झड़ने का रिकॉर्ड ५ बार का था जो उसने मनुज के साथ बनाया था (जानने के लिए पढ़े इसी वेबसाइट पर मजेदार सच्ची दास्ताँ (“भाई ने बीबी की चुत चोदकर गर्भवती किया”) तो क्या मालिनी इस बार झड़ने का ये रिकॉर्ड तोड़ने वाली थी? जिस तरह से उस्मान मालिनी को ले रहा था निश्चित ही वो अपना ५ बार का रिकॉर्ड आज ही तोड़ने वाली थी, मुझे गर्व था अपने दोस्त पर की वो मेरी बीबी की आग को बहुत ही अच्छी तरह ठंडी कर रहा था, मै तो मनुज को ही सम्पूर्ण मर्द समझता था लेकिन उस्मान तो उनसे बहुत आगे था.

मालिनी का गाढा गाढा चुतरस बिस्तर पर फ़ैल गया जिसे जग्ग्गु ने रगड़ रगड़ कर साफ कर दिया चाट लिया, मालिनी चौथी बार झड़ी जबकि उस्मान को देखकर ऐसा नहीं लग रहा था की वो मालिनी के किसी भी छेद (चुत और गांड ) में अपना लंड डालकर झड़ने वाला है, उसका गधे के लंड जैसा लंड अभी भी विकराल रूप में था.

४ बार झड़ने के कारन मालिनी अब थोड़ी थकी सी लग रही थी पर उसकी चुदने की तमन्ना उसमे जोश भर रही थी.
मालिनी फिर से गरम होने लगी वो अपना निचला ओंठ अपने दांतो से काट रही थी, मालिनी की गांड उस्मान के पुरे चेहरे पर थी और वो उसकी चुत को चाट रहा था.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मालिनी – ऊंह आह। ऊंह आह आह ओह आईईईई आईईईई, एसससस बड़ा मजा आ रहा है, उस्मान करते रहो … बड़ा अच्छा आआअहहह लग रहा है … आआह … ईईईई …
वो फिर से झड़ने लगी और बिना चुत में लंड डाले अपने पुराने रिकॉर्ड की उसने अब बराबरी कर दी थी, उधर उस्मान का मुँह पुरे चुत रस से भर गया था, मालिनी अभी भी उसके मुँह में झटके दे रही थी, अचानक मालिनी के ध्यान उस्मान के टनटनाये हुए खड़े गधे के लंड जैसे लंड पर गया और वो लंड पर झुक गई, मालिनी के झुकते ही अब मालिनी की गांड बड़ी सी गांड उस्मान की आँखों के सामने थी, उस्मान ने मालिनी की गांड को देखते ही उसका तना लंड ठुनकी मारने लगा, उसने अपने दोनों हाथो से मालिनी की गांड को फैलाते हुए उसके छेद में ऊँगली कर रहा था, मालिनी चिंहुँक उठी उसने अपने हाथो से उस्मान के लंड को पकड़ा और उसपर ३-४ बार चुम्मी ले ली, करीब ३.५ इंच मोटा और १०.५ इंच लम्बा लंड देखकर वो ख़ुशी से फूली नहीं समा रही थी.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  आरती भाभी की हवस

उसने उस्मान के लंड को अपने सीने से चिपका लिया, वो उसे अपनी चूचियों पर रगड़ रही थी. इतने बड़े लंड से छोड़ने की चाहत में उसकी चुत में चिपचिपा सा लेसदार कतरा निकलने लगा. उसने उस्मान के लंड की चमड़ी को अपने हाथो से निचे किया, मालिनी की आँखों के सामने उस्मान के लंड का सेब जैसा मोटा सुपाड़ा निकलकर सामने आ गया इस समय दोनों ६९ की पोजीशन में थे मालिनी ने उस्मान के लंड के टिप अपनी जीभ लगाकर उसे चाटने लगी, उस्मान का जितना प्रिकम निकला था उतना तो मेरा वीर्य नहीं निकलता था.

इधर उस्मान ने अपने लंड पर हो रहे प्यार का जवाब मालिनी की चुत और गांड को चाट कर देने लगा, उसने मालिनी की चुत और गांड पर दोहरे हमले चालू कर दिया वो जोर जोर से बारी बारी से उसकी चुत और गांड को वाइल्ड तरीके से चाटने लगा, इस दोहरे हमले को मालिनी ने ज्यादा देर तक बर्दाश्त नहीं कर पायी और यस मालिनी ने अपना पुराना रिकॉर्ड ५ बार झड़ने का रिकॉर्ड शानदार तरीके से तोड़ दिया वो उस्मान के चेहरे पर भरभरा कर. झड़ने लगी, मालिनी की चुत से निकले करीब करीब १५-२० ग्राम चुतरस से उस्मान का चेहरा भीग गया, छटवी बार झड़ने से मालिनी थक कर चूर हो गई थी, वो एक ओर लुढ़क गई.

छटवी बार झड़ कर मालिनी निढाल होकर एक ओर गिर गई जबकि उस्मान अभी भी एक बार भी नहीं झड़ा था. करीब ५ मिनट वो ऐसे ही आँखे बंद कर के पड़ी रही जबकि उस्मान अपना लंड उसकी गांड में घिसने लगा अचानक उस्मान को क्या सुझा उसने अपना लंड मालिनी के मुँह के पास ले गया और वो पेशाब करने लगा, वो अपने लंड के छेड़ पर ऊँगली रख के मूत रहा था जिससे पेशाब की धार ना पड़ते हुए वो एक फौवारा जैसे गिर रही थी, जैसे ही मालिनी के चेहरे पर पेशाब गिरी मालिनी अपने होश में आ गई वो झटपटा कर उठी और उसने उस्मान के लंड को अपने मुँह के पास कर के सारा का सारा पेशाब पी गई.

उस्मान ने मालिनी को अपने गले से लगा लिया अब फाइनल का समय आप गया था उसने मालिनी को बिस्तर पर लिटा दिया और वो उसके सारे बदन को चूमने लगा साथ ही वो उसकी चूचियों को भी जोर जोर से मिंज रहा था.
उस्मान – सच में जान अगर तुम मेरी बीबी होती तो मै तो एक पल भी अपना लंड तुम्हारी गांड और चुत से नहीं निकलता.
मालिनी – तो जान बना लो न, भले ही वो भड़वा दुनिया की नजरो में मेरा पति है, पर मैंने उससे कभी ना चुदने की कसम खाई है, मै उससे नहीं चुदती.
उस्मान उसकी चूचियों को चूसते हुए बोला- आज से अब तुम्हारी चुत या गांड कभी खाली नहीं रहेगी, मैं भी ये कसम खाता हूँ की आज से हम दोनों जब भी घर में अकेले रहेंगे तब तब चुदाई करेंगे.
उस्मान ने मालिनी के ओठों पर अपने ओठ रख दिए दोनों पेशनेट किस करने लगे.मालिनी फिर से गरम होने लगी थी उसने बोला – जान अब और सहन नहीं होता, एक बार अपने औजार को मेरे अंदर डाल दो.
उस्मान – जान मै डरता था की कही तुम भी और लड़कियों की तरह मेरा प्यार बर्दाश्त नहीं कर पायी तो…. उस्मान मालिनी की गांड को मसलते हुए बोला. परन्तु तुम्हारे अंदर की आग को देखते हुए लगता है, की तुम मेरे लिए एक परफेक्ट औरत हो.
मालिनी – हां मेरे साजन अब अपनी इस सजनी की चुत में अपना बड़ा लंड डालकर उसकी रगड़दार चुदाई करके उसे अपनी औरत बनने का सुख दो.
मालिनी की इतनी बात सुनकर उस्मान ने उसे चित्त लिटा दिया और उसके गांड के निचे एक तकिया लगा दिया जिससे मालिनी की पावरोटी की तरह फूली हुयी चुत खुल के सामने आ गई. उसने एकबार फिर चुत को चूमा और अपने लंड के सुपाड़े को चुत पर रगड़ने लगा, चुत का लंड से मिलान होने की ख़ुशी में मालिनी की चुत ने पानी बहाना चालू कर दिया.
उस्मान ने मालिनी के तने हुए निप्पल को बारी बारी से चूसा, मालिनी की चुत बेतहाशा पानी छोड़कर अपने नए मेहमान का स्वागत कर रही थी.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  जेठ ने खेला प्यार भरी चुदाई वाला खेल

कहानी जारी है, तो दोस्तों आपको मेरी बीबी और मेरे दोस्त के बिच चुदाई की ये सच्ची कहानी कैसे लगी ये कहानी पढ़कर मेरी माताए, बहने, भाभी, चाची आदि महिलाये और साथ ही मेरे भाई, बांधव, दोस्त आदि कितने बार झड़े मुझे लिखकर जरूर बताया मेरा मेल आईडी है – [email protected]
आपका
जगत

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!