कामवाली ने दूध पिलाकर चोदना सिखाया-2

Kamwali ne doodh pilakar chodna sikhaya-2

फिर मैंने कसकर उसकी चूची पकड़ ली और दबाता चला गया तो वो चिल्ला पड़ी, बस करो नहीं तो टूट जाएगी. फिर मैंने उसकी चूची को उसके ब्लाउज के ऊपर से चूसना शुरू किया. फिर वो बोली कि ब्लाउज तो उतार दो. फिर मैंने एक-एक करके उसके ब्लाउज के बटन खोले और जैसे ही मेरे सामने उसके दोनों बूब्स आजाद हो गये तो में उनसे चिपक गया. अब मेरा लंड उसके फटे हुए पेटीकोट के अंदर था और उसकी चूत को टच कर रहा था.

फिर उसने मेरा हाथ अपनी दोनों चूचियों पर रखा और बोली कि लो मेरा दूध पी लो, तो में चालू हो गया और एक-एक करके उसकी दोनों चूचियों को छूने लगा. फिर आधे घंटे तक moti aunty ki chudai चूसने चाटने के बाद वो बोली कि बस करो, क्या खा ही जाओगे? तो में रूक गया. फिर उसने अपना पेटीकोट उतारा और मुझे अपनी चूत दिखाई और बोली कि कभी देखी है? तो मैंने कहा कि नहीं. फिर वो बोली कि लो इसको चाटो तो मैंने तुरंत उस पर अपनी जुबान रख दी और चाटने लगा.

अब madhuri ki cudai से झांटे मेरे मुँह में जाने लगी थी तो मैंने कहा कि इसे साफ तो करो. फिर उसने मेरे पापा के रेज़र से अपनी चूत के सारे बाल साफ कर दिए और बोली कि लो अब ठीक है. तब तक में उसकी चूची ही चूसता रहा और अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था और मैंने पहली बार ऐसा किया था और फिर में बहुत देर तक उसकी bur choda chodi desi चूत को चाटता रहा.

फिर उसने मुझे 69 पोज़िशन में लिया और मेरा लंड चूसने लगी. अब 15 मिनट में मेरा जूस निकलने लगा था. फिर मैंने कहा कि सावित्री मुझे कुछ हो रहा है. फिर वो बोली कि मेरे मुँह में ही होने दे, तू अपना काम करता जा. फिर तभी मैंने कहा कि मुझे बूब्स पीना है तो उसने फिर से बकरी का थन मेरे मुँह में लगा दिया. फिर मैंने कहा कि इसका नहीं तुम्हारा. फिर वो बोली कि आज से जब मन चाहे तब मेरा दूध पी लेना, में तुम्हें नहीं रोकूंगी.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मासूम नौकरानी के बदन को रगड़ कर मज़ा लिया

फिर मैंने उसके बूब्स पर अपने दाँत गड़ा दिए तो वो चिल्ला पड़ी, मत करो दर्द होता है और फिर बोली कि क्या तुम मुझे चोदना चाहते हो? तो मैंने कहा कि यह कैसे होता है? फिर वो बोली कि जब इतना सिखा दिया है तो और भी सिखा दूँगी मेरे राजा.

फिर उसने मुझसे कहा कि जब में कहूँ तो तुम अपना लंड मेरी चूत में डाल देना और दनादन धक्के लगाना. बस फिर क्या था? यह तो कोई मुश्किल नहीं थी और फिर मैंने उसके होंठो को चूसना शुरू किया और 15 मिनट तक हम एक दूसरे को प्यार करते रहे. फिर उसने मुझे खींचा और मेरे लंड को अपनी desi chut hd mein चूत पर रखा और इशारा किया तो मैंने जैसे ही धक्का मारा तो वो चिल्ला पड़ी.

फिर मैंने उसके होंठो को अपने कब्जे में लिया और धक्के पर धक्का मारता रहा. अब सावित्री भी अपने चूतड़ उछाल- उछालकर मेरा साथ दे रही थी और गूऊऊऊऊ, गाआआआआआअ, आआआहह मेरे राजा, मेरे यार, मेरे प्यारे और चोदो मुझे, मेरी चूत फाड़ डालो, मुझे अपने बच्चे की माँ बना दो, मुझे मसल डालो और ना ज़ाने क्या-क्या चिल्लाती रही? फिर 15 मिनट के बाद मेरा लंड झड़ गया और मैंने उसकी चूत में ही मेरा सारा पानी निकाल दिया.

फिर वो थक गयी और बोली कि मज़ा आ गया राजा. में इस चुदाई को हमेशा याद रखूंगी, तुमने तो मेरी जवानी खिला दी, तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है. फिर मैंने कहा कि सावित्री क्या यही चुदाई है? तो वो बोली कि हाँ मेरे राजा तुमने अपनी सावित्री को चोद दिया है, अब तुम जहाँ बोलो, जब बोलो में तुमसे bur chodne ka video के जैसे चुदूंगी और फिर एक बार मैंने उसकी चूची को चूसा.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  कामवाली बाई को बनाया घरवाली-4

अब मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया था और में फिर से सावित्री पर चढ़ गया और उसे पेलने लगा. अब वो मना कर रही थी, लेकिन में नहीं माना और फिर जब में वापस से झड़ा तो वो बोली कि राजा तुम तो बड़े वो हो, मेरे मना करने पर भी मुझे चोद दिया, में तो तुम्हें बच्चा समझ रही थी, लेकिन तुम तो बड़े निकले और फिर वो मेरे लंड को चाटने लगी.

फिर मैंने कहा कि मुझे पेशाब आ रही है. फिर वो बोली कि चलो में करा दूँ और वहाँ उसने मेरा सारा पेशाब अपने मुँह में लेकर पी लिया और बोली कि चलो आज ही तुम्हें चोदना सिखा दिया, अब तुम मेरी गांड मार लो. फिर मैंने कहा कि यह क्या है? तो उसने अपना चूतड़ मुझे दिया और बोली कि यह छोटा सा छेद है और इसे गांड कहते है, मगर इसे मारने में दर्द होगा.

फिर मैंने उसकी गांड पर अपना हाथ मारा, लो मार दी. फिर वो हँसने लगी और मेरे होंठो को चूसते हुए बोली कि राजा जी इसमें अपना लंड तो डालिए, जैसे मेरी चूत में डाला था. फिर मैंने झट से अपना लंड उसकी गांड पर रखा और एक धक्का मारा, तो वो चिल्लाई राजा पहले तेल तो लगाओ, नहीं तो बहुत दर्द होगा और लंड अंदर भी नहीं जाएगा.

फिर वो उठी और नंगी ही तेल लेने गई, अब उसके chut moti chut और मोटे-मोटे चूतड़ ऐसे हिल रहे थे कि मेरा दिमाग़ ख़राब हो गया और मैंने दौड़कर उसे पीछे से पकड़ लिया और उसे आँगन में ही कुत्तियाँ बनाकर अपने लंड पर तेल लगाया और उसकी गांड पर रख दिया. फिर वो बोली कि अंदर चलो, लेकिन में नहीं माना और एक धक्का मार दिया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  मुझको चोदा मेरे घर के नौकर ने

अब मेरा थोड़ा सा लंड उसकी गांड में अंदर चला गया था कि वो रोने लगी, बहुत दर्द हो रहा है. फिर मैंने पूछा कि क्या तुम्हारा पहली बार है? तो वो बोली कि हाँ दीदी मरवाती है, तो मैंने सोचा कि में भी मरवा लेती हूँ, लेकिन मेरी मेरे पति से कहने की हिम्मत नहीं होती थी, इसलिए तुमसे कहा, लेकिन बहुत दर्द हो रहा है, मत करो.

फिर मैंने कहा कि हो सकता है शुरू-शुरू में दर्द हो और फिर बाद में नहीं हो. फिर वो बोली कि ठीक है जो चाहे करो, मारो मेरी गांड राजा जी, आपकी ही चीज़ है, जैसे चाहे इस्तमाल करो. फिर मैंने दूसरा धक्का लगाया तो वो फिर से चिल्लाई. फिर मैंने मेरा लंड वापस बाहर खींचा और फिर से पूरा का पूरा 7 इंच लंड झटके के साथ अंदर डाल दिया और फिर धक्के पर धक्का मारता रहा और वो चिल्लाती रही, बस करो, फट गई मादरचोद, बहनचोद, लेकिन में नहीं माना.

फिर 15 मिनट के बाद वो भी मज़ा लेने लगी और कुत्तिया जैसे उछलने लगी, गाना गाने लगी और जब ही में फिर से झड़ गया. फिर वो बोली कि राजा जी आज तो में जवान हो गई, मज़ा आ गया है, दिलखुश हो गया. फिर मैंने भी कहा कि मुझे भी बहुत मजा आया और उसकी चूची चूसने लगा, जो अब मेरे हाथों में नहीं आ रही थी. अब में लगातार उसके निप्पल चबा रहा था और वो मेरे बालों को सहला रही थी और ऐसे मैंने 18 साल की उम्र में पहली चुदाई की और फिर मैंने मेरी सेक्सी सावित्री को 2 साल तक चोदा.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!