पड़ोसन आंटी का रंडी रोना

Padosn aunty ka randi rona

पुणे के रहने वाले 26 साल के मोनू यादव ने अपनी पड़ोसन आंटी की चुत गांड की माँ चोद डाली। उसने अपनी कहानी में बताया की पड़ोसन आंटी का रंडी रोना रोज रोज सुन सुन कर उसे गुस्सा आ गया। अब गुस्से में उसने आंटी के साथ क्या किया और आंटी ने उसे कुछ क्यों नहीं कहा ये तो कहानी पढ़कर ही पता चलेगा।

मेरे लंड हिलाने वाले दोस्तों मैं आज आपको अपनी देसी चुदाई की कहानी सुनाने जा रहा हूँ इसलिए अपने लंड को थाम कर रखिए और अपनी चुत को संभाल कर।

मेरी उम्र 26 साल है और मैं पुणे का रहने वाला हूँ। मैं यहाँ अकेले ही रहता हूँ और काफी अच्छा कमा लेता हूँ। मेरा बाकी का परिवार दिल्ली में रहता है।

अब अकेले रहने का ये फायदा है की मैं कभी भी लड़किया बुला कर चुदाई का मजा ले सकता हूँ पर मेरे पड़ोस में एक आंटी रहती है जो काफी चुगलखोर है। अगर उसको पता लग गया की मैं यहाँ क्सक्सक्स वाले काम कर रहा हूँ तो वो मुझे पुरे मोहल्ले में बदनाम कर देगी।

वो आंटी है तो काफी सेक्सी पर उसका चेहरा देख मुझे गुस्सा आता था। आंटी का एक बच्चा था जो 12 क्लास का था। अब आप लोग पूछेंगे की आंटी का बदन केसा था।

तो दोस्तों उनका शरीर कोमल और नरम चर्बी से भरा था। मेरी नजर तो हमेशा उनके स्तनों पर ही रहती थी। उनका शरीर देख ऐसा लगता था की वो अपना दूध खुद पीती है। उनके दोनों दूध, चूतड़ आदि सब मोटे है और चुदाई के लिए ही बने है। मैंने कभी नहीं सोचा था की मैं एक सेक्सी आंटी की चुदाई करुगा।

आंटी अपने पति से हर दिन हर रात लड़ा करती थी। इनकी लड़ाई की आवाजे मेरे घर के अंदर तक आया करती थी जिस से में काफी परेशां था। पड़ोसन आंटी का रंडी रोना रोज रोज सुन कर एक रात मैं उनके घर चला गया।

मैंने जैसे ही दरवाजा खटखटाया तो अंदर से उनका पति एक बड़ा सा बेग लेकर गुस्से में निकल गया।

अंदर से आंटी बाहर निकली और उनका चेहरा काफी परेशां था। अब ये देख मेरा गुस्सा न जाने कहा उड़ गया।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Samne wali Bhabhi ko choda

मैंने आंटी से पूछा सब कुछ ठीक है न ?

तो आंटी ने गुस्से में कहा तुझे क्या काम है ?

ये सुन मुझे गुस्सा आया और मैं आंटी को बोला ” आंटी आपके घर की लड़ाई की वजह से मैं सो नहीं पाता “

आंटी – अब नहीं होगा जा !

अब बोलने को कुछ नहीं था तो मैं भी वहा से चला गया। पर उसी रात जब मैं खाना खा कर घर से बाहर आइसक्रीम खाने निकला तो आंटी के घर से सेक्सी आवाज आने लगी।

अब रात के अँधेरे में मैं आंटी के दरवाजे पर कान लगाकर उनकी सेक्सी आवाजे सुने लगा। अब उनके पति घर पर नहीं थे तो मुझे लगा की आंटी अपने बॉयफ्रेंड के साथ सेक्स कर रही है।

अपना लंड खड़ा करने के लिए हमें इंस्टाग्राम पर फॉलो करे !!

follow antarvasnastory on instagram
मैं आगे बड़ा और घर की खिड़की से अंदर देखने लगा। मुझे अंदर कुछ दिखा नहीं पर अचानक से आंटी सामने आ गई।

मुझे जैसे ही उन्होंने देखा मैं चीला पड़ा ” आंटी आपके घर कभी शांति नहीं हो सकती क्या मैं सो नहीं पा रहा !! “

ये सुने के बाद आंटी मेरे पास आई और खिड़की से मुझे अपने होठो पर चूमने लगी।

जैसे ही उन्होंने अपने बड़े होठ मेरी होठो से चिपकाये मैं लंड से पानी की बुँदे टपकने लगी। मुझे चूम कर आंटी ने मुझे प्यार से अंदर आने को कहा।

मैं भाग कर सामने वाले दरवाजे पर खड़ा हो गया और ये सोचने लगा की आज लॉकडाउन में आंटी की चुदाई उछाल उछाल कर करुगा।

आंटी ने जैसे ही दरवाजा खोला मैं उनके शरीर पर किसी शेर की तर्जा कूद पड़ा और उनके स्तनों में अपना मुँह देने लगा। मेरी इस हरकत से आंटी जोर जोर से दिल खोल कर हसने लगी।

उनके स्तनों में मुँह देने के बाद मैं उनकी काजल वाली काली आँखों में देकने लगा और उनके होठो पे लगी लिपस्टिक को सुमने के लिए अपना मुँह आगे बढ़ाने लगा।

आंटी मुझ से थोड़ी लम्बी थी और उनका शरीर तो बढ़ा था ही। चूमा चाटी के बाद आंटी ने अपने अपनी जीभ और मुझे उसे चूसने का इशारा करने लगी।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Baju wali bhabhi ki chudai ki rasleela

अब ऐसा मौका मैं तो छोड़ नहीं सकता था। मैंने अपने मुँह में उनकी गीली गीली जीभ चुसनी शुरू कर दी तभी आंटी ने एक हाथ से घर का दरवाजा बंद कर दिया।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मैं आंटी के हॉट और सेक्सी शरीर को दबाता रहा और उनके कामुक शरीर को गन्दी गन्दी जगह छूता रहा।

उसके बाद मेरा लंड खड़ा हो गया तो मैंने उसे बाहर निकाला और आंटी को हिला हिला कर दिखाने लगा।

लंड हिलाते हिलाते मैंने कहा आप ये सब क्यों कर रही हो ?? आपका तो पति है ना !!

आंटी – पति है पर किसी काम का नहीं है इसलिए तो रोज रोज लड़ाई होती है !!

ये सिनकर मैं मन ही मन खुश हो गया की चलो अब चुदाई का पका सौदा हो गया है।

हमने कुछ देर एक दूसरे को देखा और थोड़ी देर बाद हम चुदाई करने लगे।

कामुक आंटी की चुत में इतनी खुजली थी की उन्होंने अपनी साड़ी उठाई और अंदर से कच्छी निकाल कर सीधा मेरे लंड पर बैठ गई।

आंटी की चुत काली थी या गोरी ये तो मुझे नहीं आता पर वो झाटो से भरी गीली और गर्म थी।

उनका भोसड़ा किसी स्वर्ग से कम नहीं था। आंटी मेरे ऊपर बैठी और ऐसे हिलने लगी ऐसे वो घोड़े की सवारी कर रही हो।

बिस्तर पर पड़े पड़े मैंने उनके ब्लाउज को खोलना शुरू कर दिया। अपने मुँह के सामने किसी अनजान औरत के बड़े बड़े दूध उछलता देख मुझे मजा आ रहा था।

ब्लाउज खुलने के बाद मैंने आंटी के स्तन ऊपर की तरफ खीच कर बाहर निकाल दिए। उनके स्तन काफी ज्यादा लटके हुए थे और उनकी चुचिया काफी ज्यादा काली और बड़ी बड़ी थी।

मैं उनकी चुचिया आगे पीछे खींचने लगा और काफी कामुक आनंद लेने लगा। तभी मेरी नजर आंटी के चेहरे पर गई और मुझे याद आया की इसी औरत की वजह से मैं रात को सो नहीं पता।

मुझे गुस्सा गया और मैं आंटी को अपने ऊपर से हटा कर जल्दी जल्दी उनकी साड़ी खोलने लगा। साड़ी खुलते ही अंदर से उनका काला भोसड़ा सामने आ गया।

भोसड़ा देख मैंने अपने लंड को पकड़ा और भाग कर आंटी की तरफ जाने लगा। मैं भाग कर गया और आंटी की चुत में अपना खम्बा घुसा डाला।

हिंदी सेक्स स्टोरी :  पड़ोस वाले दादाजी से चुदी

उसके बाद मैं सारा गुस्सा आंटी की चुत पर निकालना शुरू कर दिया और उनके स्तन भी चूसने लगा।

चुदाई के बाद आंटी की चुत पानी पानी होने लगी। उनकी काली चुत अंदर से काफी लाल थी जूस देख मुझे और ज्यादा सेक्स चढ़ने लगता। मैं आंटी को बिस्तर पर टेढ़ा लेता कर चोद रहा था और आंटी सेक्सी सेक्सी आवाजे करने लगी।

जैसे ही आंटी की आवाज तेज हुई उनकी चुत से गाढ़ा पानी निकलने लगा। पानी निकलते ही उनकी छूट अंदर से मुलायम हो गई और मुझे उसमे लंड रगड़ने में और मजा आने लगा।

चुत के निकलते रस से मेरा लंड चिकना हो गया तो मैंने सोचा क्यों ना अब गांड चोदी जाए। मैंने अपना लंड निकाला और आंटी की गांड के छेद से घुसा दिया।

आंटी की गांड काफी टाइट थी जिस वजह से मेरा लंड लाल हो गया। लंड में खून रुक जाने से वो और मोटा हो गया जो आंटी को गांड में दर्द देने लगा।

मैं अपना सख्त और मोटा लंड आंटी की गांड में अंदर बाहर करने लगा और आंटी तेज सासे लेने लगी। आंटी का मोटा कामुक शरीर पसीने पसीने हो रहा था।

अब कमर हिला हिला कर मैं अपनी चरम सिमा तक जा पंहुचा। मैंने जोर से आंटी से स्तनों को दबोचा और उन्हें नोचने लगा जिस वजह से आंटी जोर जोर से चिलाने लगी और उनके स्तनों पर लाल निशान पड़ गए।

अब चिलाती आंटी को देख मेरा उनकी गांड में झड़ने लगा। बस 2 मिंट में आंटी की गांड मेरे गंदे पानी से भर गई।

अब चुदाई से तक कर मैं वही आंटी को गले लगा कर सो गया। तभी बाहर का दरवाजा किसी बजाय और कहा माँ !!

बस अब मैं अपनी कहानी यही खत्म करना चाहता हूँ क्यों की आगे जो हुआ वो मैं नहीं बताना चाहता। तो दोस्तों किसी लगी मेरी कहानी पड़ोसन आंटी का रंडी रोना मुझे मेल कर के बताये।

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!