सेक्सी धोबन और उसका बेटा-2

Sexy Dhoban Aur Uska Beta-2

एक दिन सफाई करते करते मा का ध्यान शायद मेरी तरफ से हट गया था और बरे आराम से अपने पेटिकोट को अपने जाँघों तक उठा के सफाई कर रही थी. उसकी गोरी चिकनी जाँघों को देख कर मेरा लंड खड़ा होने लगा और मैं जो की इस वक़्त अपनी लूँगी को ढीला कर के अपने हाथो को लूँगी के अंदर डाल कर अपने लंड की सफाई कर रहा था धीरे धीरे अपने लंड को मसल्ने लगा. तभी अचानक मा की नज़र मेरे उपर गई और उसने अपना हाथ निकल लिया और अपने बदन पर पानी डालती हुई बोली “क्या कर रहा है जल्दी से नहा के काम ख़तम कर” मेरे तो होश ही उर गये और मैं जल्दी से नदी में जाने के लिए उठ कर खड़ा हो गया, पर मुझे इस बात का तो ध्यान ही नही रहा की मेरी लूँगी तो खुली हुई है और मेरी लूँगी सरसारते हुए नीचे गिर गई.

मेरा पूरा बदन नंगा हो गया और मेरा 8.5 इंच का लंड जो की पूरी तरह से खड़ा था धूप की रोशनी में नज़र आने लगा. मैने देखा की मा एक पल के लिए चकित हो कर मेरे पूरे बदन और नंगे लंड की ओर देखती रह गई मैने जल्दी से अपनी लूँगी उठाई और चुपचाप पानी में घुस गया. मुझे बड़ा डर लग रहा था की अब क्या होगा अब तो पक्की डाँट पड़ेगी और मैने कनखियो से मा की ओर देखा तो पाया की वो अपने सिर को नीचे किया हल्के हल्के मुस्कुरा रही है और अपने पैरो पर अपने हाथ चला के सफाई कर रही है. मैं ने राहत की सांस ली. और चुपचाप नहाने लगा. उस दिन हम जायदातर चुप चाप ही रहे. घर वापस लौटते वक़्त भी मा ज़यादा नही बोली.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  माँ और अंकल की मिलन रात-1

दूसरे दिन से मैने देखा की मा मेरे साथ कुछ ज्यादा ही खुल कर हँसी मज़ाक करती रहती थी और हमारे बीच डबल मीनिंग में भी बाते होने लगी थी. पता नही मा को पता था या नही पर मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था. मैने जब भी किसी के घर से कपडे ले कर वापस लौटता तो
माँ बोलती “क्यों राधिया के कपडे भी लाया है धोने के लिए क्या”?.

तो मैं बोलता, `हा’,

इसपर वो बोलती “ठीक है तू धोना उसके कपडे बड़ा गंदा करती है. उसकी सलवार तो मुझसे धोई नही जाती”. फिर पूछती थी “अंदर के कपडे भी धोने के लिए दिए है क्या”? अंदर के कपरो से उसका मतलब पेंटी और ब्रा या फिर अंगिया से होता था,

मैं कहता नही तो इस पर हसने लगती और कहती “तू लड़का है ना शायद इसीलिए तुझे नही दिया होगा, देख अगली बार जब मैं माँगने जाऊंगी तो ज़रूर देगी” फिर अगली बार जब वो कपडे लाने जाती तो सचमुच में वो उसकी पेंटी और अंगिया ले के आती थी और बोलती “देख मैं ना कहती थी की वो तुझे नही देगी और मुझे दे देगी, तू लड़का है ना, तेरे को देने में शरमाती होंगी, फिर तू तो अब जवान भी हो गया है” मैं अंजान बना पुछ्ता क्या देने में शरमाती है राधिया तो मुझे उसकी पेंटी और ब्रा या अंगिया फैला कर दिखती और मुस्कुराते हुए बोलती “ले खुद ही देख ले” इस पर मैं शर्मा जाता और कनखियों से देख कर मुँह घुमा लेता तो वो बोलती “अर्रे शरमाता क्यों है, ये भी तेरे को ही धोना परेगा” कह के हसने लगती. पता नही क्यों मा अब कुछ दिनों से इस तरह की बातो में ज़यादा इंटेरेस्ट लेने लगी थी.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
हिंदी सेक्स स्टोरी :  मम्मी की चूत का भोसड़ा बनवाया-1

मैं भी चुप- चाप उसकी बाते सुनता रहता और मज़े से जवाब देता रहता था.जब हम नदी पर कपडे धोने जाते तब भी मैं देखता था की माँ अब पहले से थोरी ज्यादा खुले तौर पर पेश आती थी. पहले वो मेरी तरफ पीठ करके अपने ब्लाउज को खोलती थी और पेटिकोट को अपनी छाती पर बाँधने के बाद ही मेरी तरफ घूमती थी, पर अब वो इस पर ध्यान नही देती और मेरी तरफ घूम कर अपने ब्लाउज को खोलती और मेरे ही सामने बैठ कर मेरे साथ ही नहाने लगती, जब की पहले वो मेरे नहाने तक इंतेज़ार करती थी और जब मैं थोडा दूर जा के बैठ जाता तब पूरा नहाती थी. मेरे नहाते वक़्त उसका मुझे घुरना बदस्तूर जारी था और मेरे में भी हिम्मत आ गई थी और मैं भी जब वो अपने छातियों की सफाई कर रही होती तो उसे घूर कर देखता रहता. माँ भी मज़े से अपने पेटिकोट को जाँघों तक उठा कर एक पत्थर पर बैठ जाती और साबुन लगाती और ऐसे एक्टिंग करती जैसे मुझे देख ही नही रही है.

उसके दोनो घुटने मुड़े हुए होते थे और एक पैर थोडा पहले आगे पसारती और उस पर पूरा जाँघो तक साबुन लगाती थी फिर पहले पैर को मोड़ कर दूसरे पैर को फैला कर साबुन लगाती. पूरा अंदर तक साबुन लगाने के लिए वो अपने घुटने मोड़े रखती और अपने बाए हाथ से अपने पेटिकोट को थोडा उठा के या अलग कर के दाहिने हाथ को अंदर डाल के साबुन लगाती. मैं चूँकि थोड़ी दूर पर उसके बगल में बैठा होता इसीलिए मुझे पेटिकोट के अन्दर का नज़ारा तो नही मिलता था, जिसके कारण से मैं मन मसोस के रह जाता था की काश मैं सामने होता, पर इतने में ही मुझे ग़ज़ब का मज़ा आ जाता था. और उसकी नंगी चिकनी चिकनी जंघे उपर तक दिख जाती थी. माँ अपने हाथ से साबुन लगाने के बाद बड़े मग को उठा के उसका पानी सीधे अपने पेटिकोट के अंदर डाल देती और दूसरे हाथ से साथ ही साथ रगडती भी रहती थी. ये इतना जबरदस्त सीन होता था की मेरा तो लंड खड़ा हो के फुफ्करने लगता और मैं वही नहाते नहाते अपने लंड को मसल्ने लगता.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  विधवा की अगन-3

जब मेरे से बर्दस्त नही होता तो मैं सीधा नदी में कमर तक पानी में उतर जाता और पानी के अंदर हाथ से अपने लंड को पाकर कर खड़ा हो जाता और मा की तरफ घूम जाता. जब वो मुझे पानी में इस तरह से उसकी तरफ घूम कर नहाते देखती तो वो मुस्कुरा के मेरी तरफ देखती हुई बोलती ” ज्यादा दूर मत जाना , किनारे पर ही नहा ले, आगे पानी बहुत गहरा है”, मैं कुछ नही बोलता और अपने हाथो से अपने लंड को मसालते हुए नहाने की एक्टिंग करता रहता.

कहानी जारी है……

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!