दोस्त की धंदेबाज़ बीवी ने मुझे फ्री में चूत दी-2

Dost Ki Dhandhebaz Biwi Ne Mujhe Free Mein Chut Di-2

“किशोर भैया! ऐसे तुमको मजा नही आएगा। रुको मैं ब्लाउस उतारती हूँ” शारदा बोली। फिर उसने अपनी साड़ी उतार दी और ब्लाउस भी खोल कर निकाल दिया। उसने अपने दोनों हाथ पीछे किये और कसी ब्रा के हुक खोल दिए और ब्रा निकाल दी। सूरज की धंधेबाज बीवी फिर से बिस्तर पर लेट गयी। मैं उसके उपर चढ़ गया और उसके खूबसूरत मम्मो को हाथ में पकड़ लिया फिर मैं दबाने लगा। उफ्फ्फ्फ़!! क्या चिकनी छातियाँ थी उसकी। दूध पर काले काले गोल गोल घेरे बहुत सेक्सी और कामुक लग रहे थे। मैं अपने हाथो से उसके मम्मे सहला रहा था। मैं चुदासा और सेक्सी फील कर रहा था। हल्के हाथो से मैं सूरज की बीबी के मम्मे गूथ रहा था। वो  “ हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी सी… हा हा हा.. ओ हो हो….” की सेक्सी आवाजे निकाल रही थी। फिर मैं उसके दूध मुंह में भरकर चूसने लगा। मैंने शारदा के होनो हाथों को पकडकर उपर कर दिया जिससे वो मुझे मना न कर सके। उसके बाद मैं उसके स्तन चूसने लगा। ओह्ह मजा आ गया था उस दिन दोस्तों। मुझे सूरज की सेक्सी बीवी पहले दिन से ही पसंद थी।                                     “Dost Ki Dhandhebaz Biwi”

पहले दिन से ही मेरा उसे देखकर लंड खड़ा हो जाता है और चोदने का दिल करता था। आज मेरा सपना सच हो रहा था। मैं हाथ से शारदा के स्तन दबा दबाकर पी रहा था। वो भी “उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ… सी सी सी सी….. ऊँ—ऊँ…ऊँ….” बोलकर तडप रही थी। मैं एक स्तन पीता, फिर चूसकर दूसरा मुंह में भर लेता। इस तरह मैं काफी देर तक सूरज की खूबसूरत बीवी के मम्मो से खेलता रहा। फिर उसके पेटीकोट में मैं साइड से अपना हाथ डाल दिया। और उसकी चड्ढी के उपर से चूत को सहलाने लगा। शारदा मेरा हाथ पकड़ने की कोशिश करने लगी पर मैं जल्दी जल्दी उनकी रसीली चूत को चड्डी के उपर से सहलाता रहा। उसकी चूत में मैं उपर से ही ऊँगली कर रहा था। फिर मैं पूरी तरह से नंगा हो गया और अपना लंड सूरज की धंधेबाज बीवी के हाथ में पकड़ लिया।

“लो भाभी चूसो इसे” मैंने शारदा से कहा

“चूसने से एक्स्ट्रा पैसे लगेंगे किशोर भैया” शारदा इठलाकर बोली

“पैसे क्या तुम कहो तो पूरी जिन्दगी तुम्हारे नाम कर दूँ रानी!!” मैंने कहा                              “Dost Ki Dhandhebaz Biwi”

फिर सूरज की रंडी बीवी जल्दी जल्दी मेरे लंड को फेटने लगी। मैं अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा करने लगा। मुझे मजा आ रहा था। शारदा शायद कई साल से धंधा कर रही थी। उसे फुल ट्रेनिंग थी। वो जल्दी जल्दी मेरे 10” के लंड को उपर नीचे करके फेटने लगी।

“किशोर भैया तुम्हारा लंड इतना बड़ा कैसे है। सूरज का तो पिद्दी भर का है। बिलकुल मजा नही आता है” शारदा बोली

“जानेमन! रोज रात में सांडे के तेल की मालिश करता हूँ तब ये लंड इतना लम्बा है। एक बार खाओगी तो रोज रोज मांगोगी और मेरे ही लंड से चुदवाओगी” मैंने कहा

अब शारदा और जल्दी जल्दी मेरा लंड फेटने लगी। फिर झुककर उसने मुंह में ले लिया और जल्दी जल्दी चूसने लगी। मैं उसकी बेताब छातियों से खेलने लगा। शारदा के हाथो की छुअन से मेरा लंड फूल लगा था और सारी नशे तन गयी थी। मुझे भरपूर मजा मिल रहा था। शारदा के बाल बार बार नीचे को गिर जाते थे। खुले हुए काले बालों में वो बेहद सेक्सी और हॉट माल लग रही थी। मेरे सुपाडे का रंग बिलकुल गुलाबी हो गया था। मेरे लंड के छेद में सूरज की बीबी जीभ बार बार लगा रही थी जिससे मुझे अजीब सी सनसनी मिल रही थी। वो बहुत आक्रामक हो गयी थी और अपने गले तक मेरे लंड को लेकर चूस रही थी। दोस्तों शारदा मेरे लंड को खा लेना चाहती थी। वो बार बार काट लेती थी। मैं तडप जाता था।                                                   “Dost Ki Dhandhebaz Biwi”

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मुझे मजा आ रहा था। साथ ही मैं “अई…..अई….अई… अहह्ह्ह्हह…..सी सी सी सी….हा हा हा…” की आवाज निकाल रहा था। सूरज की धंधेबाज बीवी ने 25 मिनट मेरा लंड चूसा। फिर उसने जल्दी से अपना पेटीकोट खोल कर दूर फेंक दिया। उसने अपनी चड्डी निकाल दी।

“किशोर भैया!! तुमको लड़की को लंड पर बिठाकर चोदना आता है की नही????” सूरज की बीबी बोली

“अरे जानेबहार मुझे बिस्तर पर हर तरह का करतब आता है” मैंने कहा

शारदा उछलकर मेरी कमर पर आ गयी। मेरे 10” के लंड को उसने अपनी चूत में डाल लिया और धीरे धीरे पूरा चूत में खा गयी। मेरे लंड से उसकी कसी चूत को अंदर तक फाड़ दिया था और अंदर घुस गया था। मैंने कुछ नही किया। सब कुछ सूरज की सेक्सी बीवी ही कर रही थी। वो धीरे धीरे मेरे लंड पर उछलने लगी। उसकी रसीली बुर चुदने लगी। मैं सीधा लेटा हुआ था। शारदा मेरे लंड को चूत में खाने लगी और चुदवाने लगी। इसके साथ ही वो “अई…..अई….अई… अहह्ह्ह्हह…..सी सी सी सी….हा हा हा…” कर रही थी। उसे मैं खूब मजा दे रहा था। मैं तो बस आराम से लेटा था।                                                                  “Dost Ki Dhandhebaz Biwi”

धीरे धीरे शारदा मेरे 10” लंड रूपी घोड़े की सवारी करने लगी और उसके गोल मटोल चुतड़ करिश्माई तरह से गोल गोल घूम रहे थे। मैं तो देख कर हैरान था। इसका मतलब सूरज की बीवी असली रंडी थी और चूत चुदाई के सारे करतब जानती थी। मैंने उसके पुट्ठे सहलाना शुरू कर दिया। वो जो जोर से मेरे लंड पर कूदने लगी। शारदा की बड़ी बड़ी चूचियां बार बार किसी बाल की तरह उछल रही थी। खुले बालों में वो कामवासना की साक्षात मूर्ति लग रही थी। मैं आराम से लेटकर सूरज की सेक्सी बीवी की चूत भोग रहा था। दोस्तों कुछ देर बाद मेरा लंड उसकी चुद्दी में सरपट सरपट दौड़ने लगा। मुझे लगा की अब माल निकल जाएगा। पर किसी तरह मैंने खुद को सम्हाला। हम दोनों दो जिस्म एक जान हो गये थे। एक दुसरे में समा गये थे। चारो तरफ आनंद ही आनन्द हो गया था, हम दोनों जोर जोर से हांफ रहे थे। शारदा तो जैसे रुकना जानती ही नही थी। वो जल्दी जल्दी मेरे लंड पर कूद रही थी और “…..ही ही ही……अ अ अ अ.अहह्ह्ह्हह उहह्ह्ह्हह….. उ उ उ…” की आवाज निकाल रही थी। इधर मेरा लंड अब पूरी तरह से अकड गया था। किसी भी वक़्त मेरा माल छूट सकता था। मैंने शारदा की चूचियों की निपल्स को ऊँगली से पकड़ लिया और ऐठने लगा। वो कसमसाने लगी और तेज तेज मेरे लंड पर कूदने लगी।                 “Dost Ki Dhandhebaz Biwi”

“माँ की लौड़ी रस्सी कूद खेल रही है क्या???” मैंने कहा फिर नीचे से मैं भी हमला करने लगा। उपर शारदा की रसीली बुर में धक्के मारने लगा। हम दोनों धक्के मारने लगे। आखिर 40 मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद शारदा मेरे साथ ही झड़ गयी। हम दोनों पसीना पसीना हो गये। वो मेरे सीने पर गिर पड़ी। मैं उसे प्यार करने लगा। दोस्तों आधा घंटे तक शारदा मेरे सीने पर सिर रखकर लेटी रही। आज उसने मुझे अपनी रसीली चूत बिलकुल बीवी बनकर दी थी। मैं बेहद खुश था। अब वो मुझसे पैसे नही लेती है और मुफ्त में चूत दे देती है।

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!