मेरी हिंदी कि पूरी कहानी-4

Meri Hindi Chudai Ki Poori Kahnai-4

अगले दिन लंच के बाद वहां से निकला पूरी रात तीनों के बारे में सोचता रहा लेकिन फिर वही रिजल्ट निकला कि मुझे सबसे ज्यादा पसंद रेखा ही आई थी.

और अगले 30 सालों तक मैं रेखा को हर तीन चार महीने पर उसके घर जाकर चोदता रहा. रेखा की पहली चुदाई के 16 साल बाद मेरी पोस्टिंग उसके ब्रांच में हुई. वह भी चीफ ब्रांच मैनेजर, ब्रांच इंचार्ज के पोस्ट पर. रेखा ही नहीं उसका हस्बैंड बेटी और ब्रांच के पूराने स्टाफ  मुझे देखकर बहुत खुश हुए. रेखा की बेटी २० साल की एक बहुत खूबसूरत लड़की हो गई थी. रेखा उस समय ४१-४२ साल की थी मेरी उमर 38 साल थी. मेरी तीनों बेटियां पैदा हो चुकी थी.                                          “Hindi Chudai Ki Poori Kahnai”

रेखा और उसकी बेटी के चुदाई के बारे में बाद में बात करूँगा.

मेरे गाव में तो मां और सपना काकी थी ही. हर ६-८  महीने पर में अपने गाव जाता था. मां की पहली चुदाई के २ साल बाद बहन की मैरिज हो गई उसकी अपनी पसंद के लड़के के साथ.  मां की चुदाई के चक्कर में मेरी नजर कभी बहन की जवानी पर नहीं गई. बहन की मैरिज के कुछ महीने बाद मां और बाबू जी मेरे पास आए मेरी पोस्टिंग वाली जगह पर में कंफर्म हो चुका था और मैने १ bhk का  फ्लैट रेंट पर ले लिया था.

मां बाबूजी को बेवकूफ कैसे बनाती थी मुझे नहीं मालूम लेकिन फ्लैट में आने के पहले ही रात से हम चुदाई करने लगे. मेरा घर सेट करने के बाद बाबूजी चले गए और मेरे बहुत जिद करने पर माँ को मेरे पास रहने दिया. फिर क्या, मां बेटे ने जमकर हनीमून मनाया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Meri, Maa Aur Bhen ki chudai kahani-1

करीब 2 हफ्ते के बाद मैं जिद करने लगी कि मैं दूसरी लड़कियों, औरतों को घर लाओ और उनको चोदो. मैंने मना किया लेकिन वह मानि ही नहीं उसने धमकी दी कि अगर एक हफ्ते के अंदर किसी को घर नहीं लाऊंगा तो वह वापस चली जाएगी और फिर मुझसे कभी नहीं चुदवायेगी. उन्होंने यह भी मना किया कि मैं वेश्या और कॉल गर्ल्स को ना लाऊ, उन्हें कभी ना चोदु.                        “Hindi Chudai Ki Poori Kahnai”

और बैंक स्टाफ में से एक औरत को पटाना शुरू किया वह भी मैरिड थी, करीब ३५ साल की, उसकी बड़ी बेटी जवान हो चुकी थी.. एकदम चोदने लायक.. में उस औरत को बैंक के मार्केटिंग, डिपॉजिट के लिए करीब करीब हर रोज साथ ले जाने लगा. वह खुद ही खुल गई अपने हस्बैंड की शिकायत करने लगी, यह बहुत दारु पीता है, उस से लड़ता झगड़ता है बच्चों को भी मारता पीटता है.

कभी कभी रास्ते से मुझे अपने घर ले जाने लगी. मैंने ध्यान दिया कि मां के साथ साथ उसकी बड़ी बेटी भी मेरे आस पास रहना चाहती थी. एक दिन उस औरत के सामने उसकी बड़ी बेटी जवान बेटी मंजू के गालो को मैने पिंच किया. लड़की तो शरमाई लेकिन मां ने मुझे देख कर स्माइल किया.                                                                              “Hindi Chudai Ki Poori Kahnai”

कुछ देर बाद वह चाय लेकर आई. हम दोनों अकेले थे. मीना ने सीरियस होकर पूछा कि मैंने उसकी जवान बेटी के गालों को क्यों छुआ? मैंने आसपास देखा उसके बच्चे नजर नहीं आए मैंने हिम्मत कर उसके दोनों गालों को एक साथ दबाया और कहा कि,

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Meri Janu Chudakkad Shanu

माँ  गालो को नहीं छूने देती है इसीलिए बेटी को छुआ यह सोचकर की बेटी के गाल  भी मां के गाल  जैसे होंगे.

उसने मेरे हाथों को अलग हटाया और आंखे नीचे कर के पूछा,

“मुझसे बहुत प्यार करते हो?”

मैंने उसका सर ऊपर उठाया और धीरे से सर पर चूमा.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

हां, बहुत प्यार करता हूं…  मीना मुझसे शादी कर लो

वह मुझे घूरती रही. फिर कुछ नहीं हुआ. अगले दिन जब हम दोनों ब्रांच से निकले तो ऑटो में बैठे ही मीना ने मेरे हाथों को दबाया

अपने घर ले चलो

मां के दिए गये  टाइम लिमिट के ७ दिन के अंदर नहीं, दसवे दिन एक दूसरी औरत मेरे बेड पर थी. मीना ने भी मां जैसे बेशरम होकर चुदवाया एक नहीं दो बार और माँ ने हमारी चुदाई  देखी.                                      “Hindi Chudai Ki Poori Kahnai”

दूसरी चुदाई के बाद मेरे बहुत मना करने के बाद भी बिना मुझे खींचते हुए बाहर ले आई. हम दोनों बिल्कुल नंगे थे. मां की आंखें झुक गई,

आंटी शर्म मत कीजिए आपको मैं दिखाने लाई हूं कि आपका बेटा कितना बड़ा मर्द है. १८ सालों से चुदवा रही हूं लेकिन चुदने का मज़ा आज ही मिला. आपके बेटे ने हड्डी पसली तोड़ डाली खाली कर दिया, कुछ खिलाइए, पिलाइए.

अगले ३ साल तक मीना को चोदता रहा. उस की पहली चुदाई के दो महीने बाद उसकी बड़ी बेटी को घर लाया और उसकी सील तोड़ी. माँ जा चुकी थी. लड़की को दिन पर १९ बजे से ५ बजे तक घर में रखा एक नहीं तीन बार चोदा. मंजू खुशी खुशी वापस घर गई. अगले दिन मीना मेरे साथ बैंक से घर आई. दोनों ने जम कर चुदाई की. चुदाई खत्म होने के बाद उसने लौड़ा  सहलाते हुए कहा कि उसकी बेटी मंजू मेरी कल की चुदाई से बहुत खुश है और वह मुझसे शादी करना चाहती है.                                                 “Hindi Chudai Ki Poori Kahnai”

हिंदी सेक्स स्टोरी :  फूफा जी की बहन को किया गरम

मंजू जवान थी, खूबसूरत थी और मैंने ही उसकी पहली चुदाई की थी. वह मुझे पसंद थी मैंने मीना से कहा कि अगर अपनी बेटी की मुझसे शादी करवाने के बाद भी मुझ से चुदती रहेगी तो मैं मंजू से शादी करूंगा. मीना ने कहा की अगर मैं नहीं भी कहता तो वह मुज़े नहीं छोडती.  मुझसे, अपने दामाद से चुद्वाती. मीना ने फोन पर माँ से बात की और एक  महीने के अंदर मेरी और मीना की बेटी मंजू की मेरेज हो गई.

मंजू ने अपनी छोटी बहन को सिड्यूस कर मेरे पास भेजा.. उसने कभी शिकायत नहीं कि कि मैं उसकी मां को क्यों चोदता हूं.

मेरी वाइफ मंजू को कभी पता नहीं चला कि मैं अपनी मां को भी चोदता हु.

मेरी नजर अब रेखा की बेटी नीलम पर थी. जैसा नाम वैसा ही रंग रूप चमकता, चमकता चेहरा, लंबी करीब 5 फुट 5 इंच, गोल सा चेहरा, और उस पर बड़ी मुस्कुराहट, बड़ी बड़ी आंखें और बहुत गोरा रंग. २०-२१ साल की जवान लड़की ग्रेजुएशन के फाइनल ईयर में थी. बहुत ही स्लिम फिगर था ३४-२४-३६ के साइज वाली लेकिन रेखा के सामने मैं उससे फ्लर्ट नहीं कर सकता था.                   “Hindi Chudai Ki Poori Kahnai”

कहानी जारी है……

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!