शादी में साले की बीवी की चूत का स्वाद-3

Sale ki biwi ki choot ka swad-3

में अब उसके एक बूब्स को मसलते हुए उसके दूसरे बूब्स का स्वाद लेकर चूस रहा था. मुझसे और ज्यादा देर रहा नहीं गया इसलिए मैंने उससे आगे का मज़ा लेने के लिए पूछा कि मेरी सरला रानी तुम इतने दिनों से कहाँ छुपी हुई थी? क्या में अब तुम्हे चोदना शुरू कर दूँ? उसने अपने एक हाथ से मेरी पीठ को अपनी तरफ दबा रखा था और दूसरे हाथ से वो मेरे लंड को अपने मुलायम हाथों से पकड़कर बोली कि हाँ जीजाजी आपको अब जो कुछ भी करना है प्लीज थोड़ा जल्दी से कीजिए.

फिर मैंने उससे पूछा कि में क्या करूँ? बोलो ना मेरी जान तुम तो एकदम मलाई हो मलाई, तभी उसी समय उसने झट से जवाब देकर कहा कि आप आज मुझे खा जाईए ना इसमे इतनी देर क्या सोचना? अब मैंने उससे पूछा कि में क्या क्या खाऊँ मेरी रानी, तुम बड़ी मस्त चीज़ हो यार मुझे बिल्कुल भी समझ नहीं आता कि में कहाँ से शुरू करूं? अब उसने मेरे साथ उन शरारती बातों का मज़ा लेते हुए मुझसे कहा कि जीजाजी जल्दी से आप इसको मेरे अंदर डाल दीजिए ना.

फिर मैंने अब और भी मज़ा लेते हुए उसके कान के पास धीरे से फुसफुसाकर उससे पूछा कि में क्या डालूं तुम मुझे वो तो बताओ? और फिर उसने शरमाकर कहा कि धत आप भी बहुत ही बदमाश है में अब बाहर जा रही हूँ, मैंने पहले से ही उसको कसकर पकड़ तो रखा था इसलिए मेरी उस मजबूत पकड़ से उसका छूट पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन भी था, इसलिए वो अपनी तरफ से कुछ कोशिश करके अब बिल्कुल शांत हो गई और इन्ही बातों में हम एक दूसरे के बदन से लिपट लिपटकर पता नहीं क्या क्या कर रहे थे, उस समय बस हमारे बीच कुछ ना कुछ पकड़ा पकड़ी, मसला मसली और चूसा चूसी चल रही थी जिसका हम दोनों को ही बड़ा मज़ा आ रहा था.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  Mare pyari bhabhi ki mast chut

कुछ देर बाद आख़िर मैंने उससे कहा कि मेरी रानी एक बार तुम्हे अपने मुहं से कहना पड़ेगा सिर्फ़ एक बार प्लीज़ और अब वो मुझसे पूछने लगी कि आप ही बताए कि में क्या कहूँ जीजू? अब मैंने मज़ा लेते हुए उससे कहा कि तुम कह दो कि मेरी चूत में आप अपना यह लंड डालकर प्लीज मुझे चोद दीजिए ना. अब उसने मेरे मुहं से यह शब्द सुनकर शरमाने के अंदाज़ में मुझसे कहा कि हाँ आप प्लीज जल्दी से मुझे अब अपने इस लंड को मेरी चूत में डालकर चोद दीजिए ना जीजू, आप मुझे और मत तड़पाइए में कब से आपके साथ वो सब करने के बारे में सोच रही हूँ आज तो आप मुझे चोदकर शांत कर दीजिए प्लीज, उसके बाद कभी आपसे जिद नहीं करूंगी.

मैंने भी देखा कि अब ज़्यादा देर करने से हम दोनों को रिस्क है इसलिए मैंने अपना लंड उसकी चूत की दरार पर रगड़ते हुए एक हल्का सा धक्का लगा दिया, उस वजह से मेरा लंड उसकी चूत के अंदर घुस तो गया, लेकिन मुझे वो मज़ा नहीं आया, क्योंकि दोस्तों चुदाई का असली मज़ा तभी है जब औरत को नीचे लेटाकर उसकी चुदाई के मज़े लिए जाए. अब यह बात सोचकर उसी समय अपने लंड को उसकी चूत से बाहर खींचकर मैंने बाथरूम के फर्श पर सरला को तुरंत नीचे लेटा दिया और अब में उसके ऊपर चढ़ गया और मैंने उसके दोनों पैरों को पूरा फैलाकर अपना लंड उसकी चूत के मुहं पर पर रखा और एक जोरदार धक्का देकर उसको अंदर डाल दिया.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  देवरानी जेठानी का मुकाबला-1

उस धक्के से हुए दर्द से उसके मुहं से हल्की सी आईईई स्सीईईइ आह्ह्ह की आवाज बाहर निकली उससे ज्यादा उसने कुछ नहीं कहा और अब उसने भी अपनी तरफ से मेरी थोड़ी सी मदद करना शुरू किया और अपनी दोनों जांघो को सटाकर अपनी चूत से मेरे लंड को पूरा अंदर समेट लिया और उसके होंठो को चूसते हुए बूब्स को दबाते हुए मैंने उसको धक्के देकर चोदना शुरू किया और अब वो भी नीचे से अपनी गांड को उठा उठाकर मुझसे अपनी चूत को चुदवाने लगी.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

दोस्तों उस ऊपर वाले ने भी यह चुदाई वाह क्या मस्त मजेदार चीज़ बनाई है जिसको करने में सभी को चाहे वो इंसान हो या जानवर बहुत मस्त मज़ा आता है और जिन लोगो ने पहले भी चुदाई की है उन सभी को मेरी इस कहानी को पढ़कर जरुर महसूस हो रहा होगा कि हम दोनों उस समय उस चुदाई का कितना स्वाद ले रहे होंगे? अब में बीच बीच में धक्के देकर उसको चोदते हुए उसके बूब्स को भी चूस दबा रहा था और उस चुदाई को लंबी मजेदार करने के लिए मैंने अपने धक्को की स्पीड को थोड़ा सा कम ही रखा और उसके निप्पल को अपने मुहं में लेकर चूसते हुए तो मेरे धक्के और भी कम हो गए और फिर आख़िर में जब मेरे लंड ने मुझे इशारा दिया कि अब में झड़ने वाला हूँ तब मैंने उसको कस कसकर धक्के देकर चुदाई करना शुरू किया. में उसको चोदता रहा चोदता रहा और धक्के पे धक्के लगता रहा और वो उछल उछलकर मुझसे अपनी चूत को चुदवाए जा रही थी.

अब वो पूरी तरह से खुलकर बहुत जोश में आकर मुझसे कह रही थी, हाँ थोड़ा सा और अंदर जाने दो उफ्फ्फ्फ़ आह्ह्ह्ह आज आप मुझे वो मज़े दे दीजिए क्योंकि मेरे पति को तो मेरे लिए समय ही नहीं है, आप ही मुझे आज शांत कर सकते है इसलिए मैंने इतने लोगों में बस आपको चुना और आज आप मुझे जमकर ताबड़तोड़ चुदाई के मज़े दीजिए.

हिंदी सेक्स स्टोरी :  साले की बीवी के साथ नंगा खेल

दोस्तों उस समय हम दोनों बहुत जोश में थे इसलिए हमे ऐसा आनंद आ रहा था कि पता ही नहीं लगा कि हम दोनों कब एक साथ झड़ गये. फिर उसके बाद मेरा लंड छोटा मुरझाकर उसकी चूत से बाहर आने लगा और मैंने उसको बाहर निकाल लिया. अब हम दोनों ने जल्दी से अपने अपने कपड़े पहने और फिर हम बाहर झांककर एक एक करके बाहर निकलने लगे.

उससे पहले मैंने सरला को कसकर अपनी बाहों में जकड़ लिया और उसको चूमते हुए उससे कहा कि आप आज मुझसे वादा करो कि जब भी आपको ऐसा कोई अच्छा मौका मिलेगा तो आप मुझसे जरुर अपनी चुदाई करवाएगी? तो वो आप बहुत बड़े पागल हो मुझसे यह बात कहकर हंसती हुई वो दबे पैर बाथरूम से बाहर चली गयी और उसके चले जाने के कुछ देर बाद में भी बाथरूम से बाहर निकलकर अपनी जगह पर वापस जाकर में लेट गया. मैंने देखा कि अब वो भी दूसरी तरफ अपना मुहं करके अपनी जगह पर लेट गई. फिर में कुछ देर अपनी दोनों आखें बंद करके उसकी चुदाई के बारे में सोचने लगा और उसके बाद मुझे पता ही नहीं चला कि कब मुझे नींद आ गई.

आपने HotSexStory.xyz में अभी-अभी हॉट कहानी आनंद लिया लिया आनंद जारी रखने के लिए अगली कहानी पढ़े..
HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!